सीपी जोशी व मोहन प्रकाश होंगे कमजोर, कांग्रेस मे अब राजस्थान से मीणा को आगे बढाया जायेगा


अशफाक कायमखानी
जयपुर। राजस्थान मे एक आम चर्चा है कि समय आने पर पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पार्टी मे मोजूद कुछ नेताओं के खिलाफ उन्हीं की अक्षमताओं का हथियार बनाकर ऐसा उपयोग करते है कि मानो वो नेता आसमान से गिर कर खजूर पर अटक गये हो। ऐसे ही हालात आजकल राजस्थान के उदयपुर सम्भाग के सीपी जोशी के साथ होता नजर आ रहा है।
व्यवहार के अक्खड़ व कान के कच्चे माने जाने वाले उदयपुर सम्भाग के कांग्रेस नेता सीपी जोशी जनता की अदालत मे मत पत्रो द्वारा विधानसभा व लोकसभा चुनाव मे ठूकराये जाने के बावजूद कांग्रेस पार्टी ने उनको संगठन मे राष्ट्रीय महसचिव बनाकर एक अहम जिम्मेदारी देकर उन्हें एकदम से सियासत मे बडी हाईट दी थी। लेकिन समय के साथ साथ उनके प्रभार वाले प्रदेशों मे जहा जहां चुनाव होते गये एवं वहां वहा कांग्रेस पेंदे मे बैठती जाने को देखकर हाईकमान ने उनसे एक एक करके प्रदेशों का प्रभार वापिस लेते हुये कमोबेश आज उनकी हालत बीना प्रभाव वाले उन निठल्ले महासचिव की बना दी है। जिनको किसी भी समय महासचिव पद से हटाया जा सकता है।
राष्ट्रीय महासचिव सीपी जोशी को एक एक कर के संगठन पदो से मुक्ति दिलाने का सिलसिला अभी अंतिम पड़ाव पर चल ही रहा था कि अचानक कल यह खबर आई कि उन्हीं के क्षेत्र उदयपुर के पूर्व सांसद व गहलोत के खासमखास आदीवासी नेता रघूवीर मीणा को कांग्रेस की सुप्रीम कमेटी “केन्द्रीय वर्किंग कमेटी” CWC मे शामिल करके आगामी चार माह बाद होने वाले प्रदेश के आम विधानसभा चुनावों मे जोशी के बजाय मीणा का सिक्का अधिक मजबूती से चलने का साफ संकेत दे दिया है। लगता है कि धीरे धीरे सीपी जोशी कांग्रेस की सक्रिय राजनीति के बजाय राजस्थान क्रिकेट ऐसोसिएशन RCA की राजनीति मे ही उलझ कर ही रह जायेगे ओर उनके हटने से रिक्त हुये स्थान को किसी ओर नेता से भर लिया जायेगा। सीपी जोशी के अलावा मुश्किल से 1990 मे जनता दल के निशान पर राजस्थान से धोलपुर से जीवन भर मे मात्र एक बार विधायक बनने वाले कांग्रेस के दूसरे राष्ट्रीय महासचिव मोहन प्रकाश के ऊपर भी मुम्बई महानगर पालिका चुनाव मे टिकट बंटवारे मे गम्भीर आरोप लगने के बाद उनकी भी गत अब सीपी जोशी वाली हो रही है। उनसे एक एक करके प्रभार छीना जाने के साथ कुछ दिनो बाद संगठन से हटाये जाने वाले नेताओं मे जोशी के साथ साथ मोहन प्रकाश का भी नाम तय बताते है।
कुल मिलाकर यह है कांग्रेस के ऊपरी स्तर पर हो रहे एक एक करके फैसलो पर जरा नजर डाले तो अब कांग्रेस आगामी चुनावों मे खासतौर पर पिछड़ा वर्ग-एससीएसटी-आदिवासी व किसान वर्ग पर विशेष फोकस करना चाहती है। प्रदेश मे भाजपा-कांग्रेस मे सीधा मुकाबला होने पर मुस्लिम को मजबूरी मे कांग्रेस की तरफ आना कांग्रेस नेताओं का मानना है। पिछले कुछ दिनो मे हाईकमान की तरफ से लिये फैसलो मे राजस्थान स्क्रीनिंग कमेटी की अध्यक्ष शैलजा दलित, संगठन महामंत्री अशोक गहलोत पीछड़ा वर्ग व CWC सदस्य रघूवीर मीणा आदिवासी है। तो आगामी चंद दिनो मे होने वाले अन्य सम्भावित अहम फैसलो मे भी इन्हीं तरह के तबकों पर फोकस होता नजर आयेगा। जिसमे राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रमुख भूमिका रहती नजर आ रही है।

Categories: ई-पेपर,देश,राजनीति

Leave A Reply

Your email address will not be published.