पुलिस की राजनीति का शिकार हो रहा है पत्रकार


  1. प्रिय पत्रकार साथियों नमस्कार
    मैं रणवीर सिंह स्वतंत्र प्रभात पत्रकार लखनऊ से मैं आज अपने पूरे परिवार के साथ आत्महत्या करने को मजबूर हूं क्या करूं कोई सहारा नहीं है साथियों यूं तो देश के कोने-कोने में पत्रकारों से लगातार पुलिस का रवैया सामने आ रहा है पुलिस पत्रकारों से दुर्व्यवहार कर रही है मारपीट कर थाने में बंद कर रही है जबरदस्ती पत्रकारों को क्राइम में फंसाया जा रहा है अगर खबर लिखते हैं पुलिस प्रशासन के खिलाफ तो पुलिस प्रशासन फर्जी मुकदमे में फंसा कर एनकाउंटर करने की धमकी देती है ऐसा ही कुछ मामला साथियों हमारे साथ हुआ लखनऊ गाजीपुर थाना क्षेत्र स्थित सर्वोदय नगर पुल पर देसी शराब और बीयर की दुकान होने की वजह से पुल पर लगी दुकानों पर शराबियों का जमावड़ा होता था शराबी शराब पीकर महिलाओं से चेन स्नेचिंग ,लूट जैसे अपराध करते थे उस संबंध में साथियों हमने कुछ दिन पहले खबर लगाई थी अपने पेपर में छापा सीनियर अधिकारियों तक पहुंचाया प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए वहां की दुकानों को तोड़ दिया उसी से नाराज चौकी इंचार्ज सर्वोदय नगर ने हमें जबरदस्ती पुराने शातिर अपराधी के साथ नामजद कर दिया जबकि मेरा कोई अपराध से लेना-देना नहीं है मेरा कोई पुराना रिकॉर्ड नहीं है बस गलती थोड़ी सी हुई थी एक गाड़ी हमने एक लड़के से ₹30000 में खरीदी थी जिसे ₹20000 दिया था ₹10000 बाकी था और गाड़ी हमारे पास थी हमारे नाम से ट्रांसफर हो चुकी थी एक दिन अचानक हमारे घर पर हमारे ना रहने पर घर से चाबी मांग कर वह गाड़ी लेकर चला गया तब से लौटकर नहीं आया हम से फोन कर कई बार पैसा मांगता रहा हम व्यवस्था करने में लगे थे इतने में ही उस लड़के ने उस गाड़ी से कोई अपराध कर दिया और गाड़ी मौके पर छोड़कर भाग गया पुलिस ने गाड़ी को वहां से बरामद कर उसका चेचिस नंबर निकाल कर अपराधी को ना पकड़ कर हमें घर से पूछताछ के बहाने चौकी उठा ले गए वहां पर बिना सोचे समझे मुझे मारना चालू कर दिया पीट-पीटकर मेरे हाथों को फैक्चर कर दिया वह पूछते रहे कि तुम्हारे साथ उस दिन गाड़ी पर कौन था रात्रि में जब गाड़ी वहां छोड़ कर भागे थे महोदय मैं उस समय गाड़ी पर नहीं था मैं अपने घर पर सो रहा था कोई भी मेरे मोबाइल का लोकेशन ट्रेस करवा सकता है मुझे फर्जी उस गाड़ी के साथ अपराधी के द्वारा किए गए संगीन अपराधों में फंसाया जा रहा साथियों आप लोगों से निवेदन है की पत्रकारों के साथ आए दिन अन्याय हो रहा है आप लोग इस लड़ाई को लड़ेंगे मुझे पूर्ण विश्वास है अपने साथियों पर
    हमारे पत्रकार साथी हमारा ध्यान दें हमारे दो छोटे-छोटे बच्चों तथा विधवा मां की दुर्दशा देखकर आप लोग अंदाजा लगा सकते हैं कि मैं वाकई में अपराधों में लिप्त हूं या नहीं मुझे फंसाया जा रहा कहा जा रहा है कि यह जो अपराध करता था उसमें तुम्हें हिस्सा मिलता था लेकिन हमारे घर की स्थिति आप लोग घर पर जाकर देख सकते हैं मेरी मां से पत्नी से तथा छोटे-छोटे बच्चों से जानकारी ली जा सकती है हमारे घर में 2 महीने से सिलेंडर खत्म होने की वजह से चूल्हे पर खाना बनता है सिलेंडर नहीं भरवा पा रहा हूं किसी तरह पत्रकारिता करता हूं समाज के लिए शासन प्रशासन से लङता हूं आज मैं न्याय के लिए खुद दर-दर की ठोकरें खा रहा हूं मुझे कहीं से न्याय नहीं मिल रहा है हमें गरीबी में सताया जा रहा है मेरी कलम को ठुकराया जा रहा मेरे लेखों को दबाया जा रहा है इसी आशा के साथ मैं अपने शब्दों को खत्म करता हूं
    पीड़ित पत्रकार रणवीर सिंह
    स्वतंत्र प्रभात न्यूज़
    लखनऊ
    मोबाइल नंबर- 9807004589
    7565927745

Categories: राजनीति,शख्सियत

Leave A Reply

Your email address will not be published.